Adil Mohammed's Blog since 2009

Let us make the space we share better and bring the change we desire. Author is Indian Muslim, a Public Figure, Social Activist, Blogger and Media Personality. On mission to build a givers world rather than takers.

Swaraj Abhiyan Completes Successful First Year – Prof Anand Kumar .

12983265_827230804055291_3328176557009146615_o (1)

From: Media Swaraj Abhiyan <media@swarajabhiyan.org>
Date: 14 April 2016 3:28:23 pm IST
To: anupamconnects@gmail.com
Subject: [NSC SA] Press Note: Swaraj Abhiyan completes one year

Swaraj Abhiyan
Press Note : April 14 

Delhi

Swaraj Abhiyan completes one year

 

§  Swaraj Abhiyan completes one year, announces the schedule for its internal elections in line with its promise of internal democracy.

§  In the first year, Swaraj Abhiyan raises issues of agrarian distress, corruption, education and communalism.

§  Kamini Jaiswal and Pawan Gupta to be the Lokpal of Swaraj Abhiyan.

§  Membership campaign in more than 200 districts across the country, 117 districts in thirteen different states have crossed the threshold for holding internal elections.

§  Swaraj Abhiyan to run a pilot project of people’s participation in candidate selection in one of the wards of upcoming MCD by-election.

 

Swaraj Abhiyan, a movement for alternative politics, has completed one year of its formation today. The organisation came into existence at the Swaraj Samwad held in Gurgaon on the same day a year ago.

 

Swaraj Samwads

 

The first task it undertook was to establish a dialogue with volunteers, well-wishers and supporters from all parts of the country through 21 Swaraj Samwads. Beginning with the Samwad held on April 14 at Gurgaon where an overwhelming numbers of supporters and volunteers pledged their support, the journey of Swaraj Samwad moved from Gurgaon, Bangalore, Guwahati, Islampur, Kolkata, Ludhiana, Karnal, Ghaziabad, Dehradun, Samba (J&K), Ahmedabad, Hyderabad, Vijaywada, Bhubaneshwar, Allahabad, Patna, Varanasi, Pune, Ujjain, Meerut to Jaipur covering almost every part of the country.

 

 

Tractor March & Farmers’ Rally

 

The first cause taken up by Swaraj Abhiyan was for the right of farmers over their land. At a time when Modi sarkar was adamant on passing the draconian land acquisition (amendment) bill, Jai Kisan Andolan, an umbrella outfit of farmers organisations formed by Swaraj Abhiyan, held a ten day tractor march from Thikriwal (district Barnala , Punjab) that culminated in a huge farmers’ rally onAugust 10 at Jantar Mantar.  The overwhelming nationwide participation of farmers in the Jai Kisan Andolan was enough to rattle the government and around 100 of our peacefully protesting volunteers along with Yogendra Yadav were arrested in a midnight police crackdown.  The government’s action was condemned across party lines and the unlawful police act was reprimanded by the judiciary. Finally, the Modi government had to bow down before public pressure and had to withdraw its unjustified amendments to the land acquisition bill.

 

 

Samvedna Yatra

 

When it came to light that around 40 % the country’s land mass was facing a severe drought crisis, Jai Kisan Andolan took up a Samvedna Yatra through the drought affected regions of the country. The yatra began on October 2 (Gandhi Jayanti) from Yadgir in northern Karnataka covering more than 4500 kms. through Karnataka, Telengana, Maharashtra, Madhya Pradesh, UP, Rajasthan culminating in Haryana. The Samvedna Yatra was the first initiative that brought public attention to the crisis being faced by rural India.

 

Swaraj Abhiyan then conducted a survey in Bundelkhand along with noted economist Jean Dreze, the findings of which showed the drought situation to be alarming. During the Yatra through various drought affected states, Yogendra Yadav wrote letters to respective Chief Ministers with suggestions to tackle the looming crisis situation. Following this, the UP government issued a number of orders for drought relief in Bundelkhand. The communication to Maharashtra CM suggested ways to tackle the impending crisis of drinking water, which engulfs the state today.

 

 

Drought relief case in Supreme Court

 

After intensive campaign on the ground, Swaraj Abhiyan approached the Supreme Court to direct Central and 12 state governments to ensure immediate relief to drought hit people. The apex court has heard this matter on a serious and priority basis. Prashant Bhushan is arguing this case which is scheduled for final hearing on Tuesday, 19 April. The case has already forced the Central and various State governments to announce a series of additional measures for drought relief.

 

 

Anti Corruption Team & Citizen’s Whistle Blower Forum

 

Swaraj Abhiyan is committed to its anti corruption movement and has taken up numerous issues in the last one year led by Prashant Bhushan. Through a series of expose related to black money, institutional corruption by governments to corruption in the name of corporate debt restructuring, Swaraj Abhiyan has been at the forefront of the fight against corruption. On February 27-28, a two day national convention (ACT Now) was held in Delhi which saw participation of anti corruption crusaders and RTI activists from across the country. Swaraj Abhiyan facilitated the formation of an independent Citizen’s Whistleblower Forum led by Justice (Retd) AP Shah. The founding members of the forum Justice Santosh Hegde, EAS Sarma, Wajahat Habibullah, Admiral L Ramdas, Ms Aruna Roy, Professor Jagdeep Chhokar and Prashant Bhushan resolved to continue the fight against corruption in a more focussed manner.

 

 

Youth and Shiksha Swaraj

 

Under the guidance of National President, Professor Anand Kumar, a Shiksha Swaraj Youth Summit was held at the Mavlankar Hall on November 3. Taking a cue from the Allahabad High Court order directing government officers and public representatives to admit their kids in government schools, Swaraj Abhiyan organised campaigns in various states demanding equity in education. Swaraj Abhiyan gave strong voice to the agitation for non NET fellowship. After the sad demise of Rohith Vemula at Hyderabad University, Swaraj Abhiyan has filed RTIs and campaigned for the compliance of UGC guidelines to end caste based discrimination on campuses.

 

Aman Committee

 

In the last one year Swaraj Abhiyan has raised its voice against communal forces and contributed effectively in countering the politics of hate, discrimination and disharmony among various sections of the society. Swaraj Abhiyan is forming Aman Committees representing all communities all over the country to consistently promote co-ordination, interaction and develop harmony and peace between people of different communities. Swaraj Abhiyan has conducted conventions in Mumbai, Varanasi and Allahabad under the Aman Committee initiative. On the initiative of Swaraj Abhiyan various organisations that have contributed in the cause of harmony and peace building have come together to form a body called the Nirbhaya Mumbai. Swaraj Abhiyan joined others to set up Sadbhavna Manch in Haryana to restore peace in Haryana, following caste violence in February this year.

 

Membership report & Organisational Election Schedule

 

Today, political parties have diluted the definition of membership in order to compete with each other in numbers. The manner in which members are made through simple “missed calls” show the intent of parties about holding internal elections. Any organisation committed to internal democracy has to be serious with membership and devise mechanisms to avoid frivolous and bogus membership. Accordingly, Swaraj Abhiyan has kept its membership fee at Rs 50 and a foolproof system to ensure authentic and active members has been made.

 

Swaraj Abhiyan’s membership is ongoing in more than 200 districts of the country. In 117 districts (list attached at the end) Swaraj Abhiyan has crossed its requisite threshold for holding of organisational elections in the following states: Delhi, Bihar, Uttar Pradesh, Uttarakhand, Maharashtra, Madhya Pradesh, Rajasthan, Haryana, Punjab, Jammu and Kashmir, West Bengal, Karnataka and Himachal Pradesh. As of today, more than 20,000 volunteers have enrolled as members of Swaraj Abhiyan all over the country. Committed to its principle of a transparency, accountability and internal democracy, Swaraj Abhiyan announces the schedule for bottom-up organisational elections that would result in duly constituted and elected committees at the district, state and national level within the next three months.

§  Membership data on SA website: April 30

§  Last date for sending objections: May 07

§  Elections for District Committees: by May 31

§  Elections for State Committees: by June 15

§  Election of National Committees and office bearers: by July 14

Transparency and Accountability

 

Swaraj Abhiyan has made its income expenditure and list of voluntary contributors public on its website.

 

Swaraj Abhiyan has also made the minutes of important meetings, National Steering Committee (NSC) and National Working Committee (NWC) meetings and the lists of NSC and NWC members public on its website.

 

Ms. Kamini Jaiswal and Pawan Gupta to be the first Lokpal for Swaraj Abhiyan.

 

Ms. Kamini Jaiswal, a noted lawyer of Supreme Court and a member of the Committee on Judicial Accountability, has been a crusader for human rights nad has worked courageously to improve the accountability of Judges. She was involved in a number of PILs including the one filed by the Center for Public Interest Litigation in the 2G scam case.

 

Pawan Gupta, a graduate from IIT Delhi, left a commercially successful stint to change the course of his life in search of a deeper meaning. He started schools in the rural areas of Mussorie with no formal setup and gradually went on to form the Society for Integrated Development of Himalayas pioneering innovative educational for the rural children.

 

 

Swaraj Abhiyan will experiment a new model of people’s participation in one of the wards of the upcoming MCD by-election.

 

One of the root causes of corrupt practices and sycophancy in political culture is that the candidate selection process suffers from high-command supremo culture and is completely undemocratic and opaque. As per its commitment to transparency, accountability and inner party democracy, Swaraj Abhiyan is trying to experiment with a model of “candidate selection process” in order to find a people’s candidate (Lok-Umeedwar) and empower citizens in selecting their own candidates. Swaraj Abhiyan is not a political party but the upcoming by-election in Delhi MCD is an occasion to create a model of how it may intervene in electoral politics in the future.

Following is the list of districts in various states where the membership of Swaraj Abhiyan has crossed the threshold of 100 members for holding internal elections.

 

BIHAR

Khagaria, Rohtas, Sitamarhi, Patna, Bhagalpur, Muzaffarpur, Begusarai, Chhapra, Gopalganj, Siwan, Gaya, Nalanda, Nawada, Saran

 

UTTAR PRADESH

Amethi, Aligarh, Allahabad, Azamgarh, Banda, Etah, Etawah, Faizabad, Firozabad, Gorakhpur, Ghaziabad, Jaunpur, Lalitpur, Lucknow, Meerut, Muzaffarnagar, Rae Bareli, Saharanpur, Sant Ravidas Nagar, Unnao, Varanasi, Sambhal

 

UTTARAKHAND

Bageshwar, Nainital, Pauri, Garhwal, Dehradun, Tehri Garhwal

 

MAHARASHTRA

Thane, Mumbai, Pune, Solapur, Nasik, Aurangabad, Parbhani, Latur, Buldhana, Amravati

 

MADHYA PRADESH

Alirajpur, Anupur, Bhind, Chhattarpur, Dhar, Gwalior, Hosangabad, Indore, Morena, Rewa, Ujjain, Umaria

 

RAJASTHAN
Bikaner, Ganganagar, Jaipur, Jhunjhunu, Nagor, Sikar, Tonk

 

HARYANA

Bhiwani, Faridabad, Gurgaon, Jind, Kaithal, Karnal, Mewat, Palwal, Rewari, Yamunanagar

 

PUNJAB

Amritsar, Fatehgarh Sahib, Gurdaspur, Hoshiarpur, Jalandhar, Kapurthala, Ludhiana, Mohali, Patiala, SAS Nagar

JAMMU & KASHMIR

Anantanag, Jammu, Kathua, Pulwama

 

WEST BENGAL

Bardhaman, Paschim Medinipur, Uttar Dinajpur, Kolkata, Malda, Howrah, Dakshin Parganas, Uttar Parganas

 

KARNATAKA

Bangalore Urban, Shimoga

 

HIMACHAL PRADESH

Kangra

 

DELHI

Chandni Chowk 1, Chandni Chowk 2, East Delhi 1, East Delhi 2, New Delhi 1, New Delhi 2, North-east Delhi 1, North-east Delhi 2, North-west Delhi 1, North-west Delhi 2, South Delhi 1, South Delhi 2, West Delhi 1, West Delhi 2

 

Media Cell
For queries contact:
Ashutosh / +91 9560602669

Swaraj Abhiyan

A-189, Sec-43, Noida UP
swarajabhiyan.org

 

Attachments area

 

12998432_827230637388641_1384618191099528554_o

स्वराज अभियान
प्रेस नोट: 14 अप्रैल 2016

स्वराज अभियान ने पूरे किये एक साल। पहली सालगिरह पर किये कई सांगठनिक घोषणाएं।

– स्वराज अभियान के गठन के एक साल हुए पूरे। आंतरिक लोकतंत्र के वादे को ध्यान में रखते हुए संगठनात्मक चुनाव की समय सारणी घोषित।
 
– एक साल में स्वराज अभियान ने कृषि-संकट, भ्रष्टाचार, शिक्षा और सांप्रदायिकता जैसे कई अहम मुद्दों पर किया काम।
 
– कामिनी जयसवाल और पवन गुप्ता स्वराज अभियान के पहले लोकपाल होंगे। 
 
– देश भर में 200 से ज्यादा जिलों में सदस्यता अभियान। 13 राज्यों के 117 जिलों में आंतरिक चुनाव कराने के लिये सदस्यता पूरी। 
 
– दिल्ली के एमसीडी उप चुनाव में जन भागीदारी से उम्मीदवार चयन की प्रक्रिया का प्रारूप एक वार्ड में जारी।      
 
 
वैकल्पिक राजनीति के आन्दोलन के रूप में ‘स्वराज अभियान’ की स्थापना के आज एक साल पूरे हुए। आज से एक साल पहले दिल्ली और गुडगाँव में एक साथ हुए स्वराज संवाद के बाद स्वराज अभियान अस्तित्व में आया था।
 
स्वराज संवाद:
 
सबसे पहला काम देश के सभी हिस्सों में स्वराज संवाद के जरिए वालंटियर, शुभचिंतकों और समर्थकों से सीधा संवाद स्थापित करने का किया गया। स्वराज संवाद की शुरुआत 14 अप्रैल को गुडगाँव से हुई जहाँ भारी संख्या में कार्यकर्त्ता और समर्थक जुटे। फिर स्वराज संवाद का सिलसिला गुडगाँव से बंगलरु, गुवाहाटी, इस्लामपुर, कोलकाता, लुधियाना, करनाल, गाज़ियाबाद, देहरादून, जम्मू और कश्मीर, अहमदाबाद, हैदराबाद, भुबनेश्वर, इलाहबाद, पटना, वाराणसी, पुणे, उज्जैन, मेरठ और जयपुर जैसे देश के लगभग सभी हिस्सों में पहुंचा।    
 
 
ट्रैक्टर मार्च एवं किसान रैली:
 
किसानों की उनकी जमीन पर अधिकार की लड़ाई को स्वराज अभियान ने अपना पहला आन्दोलन बनाया। ऐसे समय में जब कि मोदी सरकार अपना किसान-विरोधी भूमि अधिग्रहण बिल लाने पर आमादा थी, स्वराज अभियान ने ‘जय किसान आन्दोलन’ का मंच बना कर कई किसान संगठनों को राष्ट्रीय स्तर पर एकजुट किया। जय किसान आन्दोलन ने 10 दिनों का एक ट्रैक्टर मार्च निकाला जो पंजाब के बरनाला जिले के ठीकरीवाल गाँव से चल कर दिल्ली पंहुचा और 10 अगस्त को जंतर मंतर पर किसानों की एक विशाल रैली हुई। देश भर से रैली में भाग लेने आए किसानों के हुजूम से सरकार हिल गयी और शांतिपूर्ण ढंग से प्रदर्शन कर रहे योगेंद्र यादव और लगभग 100 अन्य वालंटियरों को गिरफ़्तार कर लिया। सभी पार्टीयों ने सरकार के इस क़दम की कड़ी निंदा की। न्यायपालिका ने भी दिल्ली पुलिस को फटकार लगाई। जनदबाव के आगे मोदी सरकार को झुकना पड़ा और भूमि अधिग्रहण बिल में अन्यायपूर्ण संशोधनों को वापस लेना पड़ा।
 
संवेदना यात्रा:
 
जब देश का 40% हिस्सा भारी सूखे की चपेट में था और खेती-किसानी का संकट गहराता जा रहा था, जय किसान आन्दोलन किसान भाइयों के साथ खड़ा हुआ। 3500 किलोमीटर से ज़्यादा की देश के सभी सूखा प्रभावित क्षेत्रों में ‘संवेदना यात्रा’ निकाली गई। 2 अक्टूबर को गाँधी जयंती के दिन उत्तरी कर्णाटक के यादगिर से संवेदना यात्रा की शुरुआत हुई, जिसका तेलंगाना, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, राजस्थान होते हुए हरियाणा में समापन हुआ। संवेदना यात्रा के जरिये स्वराज अभियान ने देश का ध्यान ग्रामीण भारत के संकट की ओर किया।
 
सूखे के गंभीर संकट को देखते हुए स्वराज अभियान ने प्रसिद्ध अर्थशास्त्री जान द्राज़ के साथ मिलकर बुंदेलखंड में एक सर्वे किया जिसके परिणाम अत्यंत चिंताजनक निकले। संवेदना यात्रा के दौरान योगेंद्र यादव ने सूखा पीड़ित राज्यों के मुख्यमंत्रियों को आने वाले संकट से उबरने के सुझाव भी दिए। महाराष्ट्र में अभी चल रहे जल संकट से निपटने के सुझाव योगेन्द्र यादव ने छः महीने पहले ही मुख्यमंत्री को लिखे पत्र में दिए थे, जिसपर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री ने जवाब तक नहीं दिया।
 
सुप्रीम कोर्ट में सूखा राहत याचिका:
 
जय किसान आन्दोलन के तहत सूखा प्रभावित क्षेत्रों में गहन अभियान के बाद स्थिति की  गंभीरता को देखते हुए स्वराज अभियान ने सर्वोच्च न्यायालय का रुख किया। सुप्रीम कोर्ट में याचिका दी गयी कि न्यायालय केंद्र एवं 12 राज्य सरकारों को यह निर्देश दे कि सूखे से प्रभावित लोगों को त्वरित राहत सुनिश्चित किया जाए। सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले को प्राथमिकता देते हुए गंभीरता के साथ सुनवाई की है। प्रशांत भूषण याचिका की दलील रख रहे हैं जिसकी अंतिम सुनवाई मंगलवार, 19 अप्रैल को है। इस याचिका की वजह से केंद्र सरकार और कई राज्य सरकारों को सूखा राहत के लिए अतिरिक्त उपाय घोषित करने पड़े हैं।
 
एंटी करप्शन टीम और सिटिजेन्स व्हिसिल ब्लोअर फोरम:
 
स्वराज अभियान अपने भ्रष्टाचार विरोधी आन्दोलन के प्रति समर्पित है और पिछले एक साल में कई मामलों को प्रशांत भूषण के नेतृत्व में उठाया गया। काला धन को लेकर कई अहम् खुलासे, सरकार में संस्थानिक भ्रष्टाचार या कॉरपोरेट लोन के नाम पर भ्रष्टाचार जैसे हर मामले में स्वराज अभियान ने सबसे आगे आकर संघर्ष किया। 27 एवं 28 फ़रवरी को दिल्ली में दो दिवसीय राष्ट्रीय अधिवेशन (एक्ट नाउ) का आयोजन किया गया जिसमे देश भर से भ्रष्टाचार विरोधी आन्दोलन के सिपाही और आरटीआई कार्यकर्ताओं ने भाग लिया। स्वराज अभियान की पहल पर न्यायाधीश ए पी शाह के नेतृत्व में एक स्वतंत्र सिटिजेन्स व्हिसिल ब्लोअर फोरम का गठन हुआ। इस फोरम के संस्थापक सदस्य न्यायाधीश संतोष हेगड़े, इएएस शर्मा, वजाहत हबीबुल्लाह, एडमिरल एल रामदास, अरुणा रॉय, प्रो. जगदीप चोकर और प्रशांत भूषण सबने यह संकल्प लिया है कि भ्रष्टाचार विरोधी आन्दोलन को गहन तरीके से धार दी जाएगी।
 
 
युवा और शिक्षा स्वराज:  
 
स्वराज अभियान के अध्यक्ष प्रोफ़ेसर आनंद कुमार के दिशा-निर्देश में 3 नवम्बर 2015 को मावलंकर हॉल (दिल्ली) में शिक्षा स्वराज युवा सम्मलेन का आयोजन किया गया। इलाहबाद हाई कोर्ट का एक आदेश आया कि जनप्रतिनिधि और सरकारी अफ़सर अपने बच्चों का दाखिला सरकारी स्कूलों में करायें। इस आदेश की भावना को ध्यान में रखते हुए स्वराज अभियान ने कई राज्यों में शिक्षा के सामान अधिकार का अभियान चलाया। नॉन-नेट फ़ेलोशिप के लिए चलाए जा रहे आन्दोलन को भी स्वराज अभियान ने मजबूती से समर्थन किया। हैदराबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी में रोहित वेमुला के निधन के बाद स्वराज अभियान ने आर टी आई दायर किया और विश्वविद्यालयों में जातिगत भेदभाव के खिलाफ़ यूजीसी के दिशानिर्देशों के पालन के लिए अभियान चलाया।
 
अमन कमिटी:
 
पिछले एक साल में स्वराज अभियान ने सांप्रदायिक ताकतों के खिलाफ़ लगातार आवाज़ उठाया और समाज के विभिन्न वर्गों में फैलाये जा रहे घृणा, भेदभाव एवं असौहार्द्य की राजनीति का प्रभावी तरीके से सामना करने में सहयोग किया। स्वराज अभियान का यह मानना है कि राष्ट्र के सामने कई चुनौतियों में से साम्प्रदायिकता एक बड़ी चुनौती है। इसलिए स्वराज अभियान देश के हर जिले में एक अमन कमिटी बना रहा है जिसमें वहां के सभी समुदाय और वर्ग के सम्मानित नेता और व्यक्ति होंगे। अमन कमिटी का उद्देश्य सभी समुदायों के बीच संयोजन, समन्वय और संवाद के जरिए शांति और सौहार्द्य का निर्माण करना है। अमन कमिटी के तहत स्वराज अभियान ने वाराणसी, इलाहबाद और महाराष्ट्र में कार्यक्रम किये हैं। स्वराज अभियान की पहल पर शांति और सौहार्द्य के लिए काम करने वाले कई संगठन एक साथ आए और निर्भय मुंबई का गठन किया। स्वराज अभियान की अमन कमिटी ने उत्तर प्रदेश, बिहार, हरियाणा, असम, बंगाल, तेलंगाना, गुजरात और महाराष्ट्र में ऐसे कई क्षेत्रों को चिह्नित किया है जो सांप्रदायिक सौहार्द्य के लिए संवेदनशील हैं। हरियाणा में जातिगत हिंसा के बाद शांति और सौहार्द्य के लिए स्वराज अभियान ने कई और लोगों के साथ मिलकर सद्भावना मंच का गठन किया।
 
सदस्यता अभियान रपट और संगठनात्मक चुनाव की समय सारणी:
 
स्वराज अभियान का सदस्यता अभियान देश के 200 से ज्यादा जिलों में चल रहा है और करीब 100 से ज्यादा जिलों में लक्ष्य को पूरा कर लिया गया है। अब दिल्ली, उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, बिहार, मध्य प्रदेश, हरियाणा, पंजाब और उत्तराखंड में हमारी अच्छी उपस्थिति है। आज पूरे  देश से 20,000 से अधिक लोगों ने स्वराज अभियान की सदस्यता ली है। पारदर्शिता, जवाबदेही और आंतरिक लोकतंत्र के अपने सिद्धांतों के अनुरूप, स्वराज अभियान अपने संगठन के चुनावों की घोषणा कर रहा है, जिसके उपरान्त चुनी हुई समितियों का सबसे प्राथमिक स्तर से शीर्षस्त स्तर तक होगा। यह चुनाव आगामी ३ महीनों में पूरे किये जायेंगे
·         सदस्यों का पूरा विवरण स्वराज अभियान के वेबसाइट पर : अप्रैल 30
 
·         आपत्ति जताने की अंतिम तारीख: मई 07
 
·         जिला समितियों के चुनाव: मई 31
 
·         प्रदेश समितियों के चुनाव: जून 15
 
·         राष्ट्रीय समितियों के चुनाव: जुलाई 14 तक
 
पारदर्शिता और जवाबदेही:
 
स्वराज अभियान ने अपनी आय-व्यय और स्वैच्छिक दाताओं के नाम अपने वेबसाइट पर डाल दिए हैं।
 
स्वराज अभियान ने अपनी बैठकों की कार्यवाही, राष्ट्रीय सञ्चालन समिति, राष्ट्रीय कार्यकारी समिति की बैठकें, और साथ ही इन दोनों समितियों के सदस्यों की सूची भी अपनी वेबसाइट पर डाली है।
 
श्रीमती कामिनी जैसवाल और पवन गुप्ता स्वराज अभियान के पहले लोकपाल होंगे
 
श्रीमती कामिनी जयसवाल, जो सुप्रीम कोर्ट की जानी मानी अधिवक्ता और न्यायिक जवाबदेही समिति की सदस्य हैं, मानव अधिकारों के  लिए प्रतिबद्धता से लडती रही हैं और साहस से न्यायाधीशों की बेहतर जवाबदेही के लिए लम्बे समय से प्रयासरत हैं. वे बहुत सी जनहित याचिकाओं, जिनमें CPIL द्वारा 2G घोटाले पर दायर याचिका है, का भी हिस्सा रही हैं.
 
पवन गुप्ता, IIT दिल्ली के स्नातक, अपनी बेहतरीन नौकरी छोड़ कर जीवन के बेहतर सच की तलाश में निकल गए. उन्होंने मसूरी के ग्रामीण क्षेत्रों में स्कूल शुरू किये जिनमें कोई औपचारिक सुविधाएं नहीं थी. उन्होंने सोसाइटी फॉर इंटीग्रेटेड डेवलपमेंट ऑफ़ हिमालयाज का गठन किया जो ग्रामीण बच्चों की शिक्षा में बेहतरीन काम कर रही है.
 
स्वराज अभियान जन भागीदारी के एक नए प्रयोग का अनावरण आने वाले दिल्ली के नगरपालिका चुनाव के एक वार्ड से शुरू करेगा
 
भ्रष्ट तंत्र और चमचागिरी का एक मुख्य कारण है कि उम्मीदवार का चयन हाई कमान के हाथ में रहता है, जो पूर्णतः अलोकतांत्रिक और परदे के पीछे की प्रक्रिया रहती है। लेकिन पारदर्शिता, जवाबदेही और आंतरिक लोकतंत्र के लिए प्रतिबद्ध स्वराज अभियान एक प्रयोग कर रही है जिसमें “उम्मीदवार चयन प्रक्रिया” वार्ड के निवासियों के हाथ होगा, जिसके चलते “लोक-उम्मीदवार” का चयन होगा। स्वराज अभियान राजनीतिक दल नहीं है लेकिन आगामी दिल्ली नगर पालिका के उपचुनाव इस मॉडल को परखने का एक अच्छा मौका है, जिसमें मतदाता सीधे चुनावी प्रक्रिया में शामिल होंगे।
 
निम्नलिखित प्रदेश के जिलों में स्वराज अभियान की समितियों के लिए आंतरिक चुनाव के लिए न्यूनतम सदस्यता पा ली गयी है:
 
BIHAR
Khagaria, Rohtas, Sitamarhi, Patna, Bhagalpur, Muzaffarpur, Begusarai, Chhapra, Gopalganj, Siwan, Gaya, Nalanda, Nawada, Saran
 
UTTAR PRADESH
Amethi, Aligarh, Allahabad, Azamgarh, Banda, Etah, Etawah, Faizabad, Firozabad, Gorakhpur, Ghaziabad, Jaunpur, Lalitpur, Lucknow, Meerut, Muzaffarnagar, Rae Bareli, Saharanpur, Sant Ravidas Nagar, Unnao, Varanasi, Sambhal
 
UTTARAKHAND
Bageshwar, Nainital, Pauri Garhwal, Dehradun, Tehri Garhwal
 
MAHARASHTRA
Thane, Mumbai, Pune, Solapur, Nasik, Aurangabad, Parbhani, Latur, Buldhana, Amravati
 
MADHYA PRADESH
Alirajpur, Anupur, Bhind, Chhattarpur, Dhar, Gwalior, Hosangabad, Indore, Morena, Rewa, Ujjain, Umaria, Shivpuri,Shahdol, Jhabua, Badwani
 
RAJASTHAN
Bikaner, Ganganagar, Jaipur, Jhunjhunu, Nagor, Sikar, Tonk
 
HARYANA
Bhiwani, Faridabad, Gurgaon, Jind, Kaithal, Karnal, Mewat, Palwal, Rewari, Yamunanagar
 
PUNJAB
Amritsar, Fatehgarh Sahib, Gurdaspur, Hoshiarpur, Jalandhar, Kapurthala, Ludhiana, Mohali, Patiala, SAS Nagar
 
JAMMU & KASHMIR
Anantanag, Jammu, Kathua, Pulwama
 
WEST BENGAL
Paschim Medinipur, Uttar Dinajpur
 
KARNATAKA
Bangalore Urban, Shimoga
 
DELHI
Chandni Chowk 1, Chandni Chowk 2, East Delhi 1, East Delhi 2, New Delhi 1, New Delhi 2, North-east Delhi 1, North-east Delhi 2, North-west Delhi 1, North-west Delhi 2, South Delhi 1, South Delhi 2, West Delhi 1, West Delhi 2

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

Catagories

Archives

%d bloggers like this: