Adil Mohammed's Blog since 2009

Let us make the space we share better and bring the change we desire. Author is Indian Muslim, a Public Figure, Social Activist, Blogger and Media Personality. On mission to build a givers world rather than takers.

Modi Govt Allows Land Ordinance to Lapse – A partial Victory for JKA Farmers Movement. Swaraj Abhiyan Press Release ( HIndi N English )

11885219_10207662818711234_383556971823801097_nPress Note, August 30
 
Jai Kisan Andolan congratulates the farmers of India on Modi govt’s decision to let the land ordinance lapse
 
Facing stiff resistance and mass discontent from farmers from Kashmir to Kanyakumari, the Modi government beat a hasty retreat and caused the ordinance to be lapsed. Jai Kisan Andolan congratulates the farmers of India for a historic victory. The PM’s announcement that the land acquisition amendment ordinance will not be re-promulgated represents a major victory for farmers struggle. 
 
Jai Kisan Andolan has joined various other farmer’s organisation and movements in opposing this anti farmer ordinance ever since it was first promulgated on the 31st of December 2014. We had pointed out that this amendment ordinance effectively nullified the Right to Fair Compensation and Transparency in Land Acquisition, Rehabilitation and Resettlement Act, 2013 by doing away with all the significant pro farmer provisions in the original act. It’s after a long time that farmers have succeeded in forcing the central govt to step back on a major nationwide demand. 
 
The farmers cannot be complacent in this moment of victory. The joint parliamentary committe report is still awaited and the government has not yet conceded on the three major demands of the farmers movement. The prime minister and his advisors have repeatedly said that they would try to bring in the same amendments through the states in the months to come. In any case there is a gap between what the government promises at the national level and what it delivers on ground. 
 
The government has bought itself a face saver with the help of a legal trick by issuing a statutory order yesterday to extend the compensation benefits to 13 additional acts. Clearly the govt is trying to cover up its own mistake when it failed to bring the required notification before December 2014. The only correct way to do so now would be through an an act of the parliament that extends the benefit to these 13 central acts and makes no other amendment to the original act. 
 
The statutory order is yet another propagandist ploy by the Modi government, which knows very well that this order is illegal and may not stand judicial scrutiny. As per compensation in these central acts is concerned, Jai Kisan Andolan finds it unfortunate that both the government’s have cheated the farmers, be it the UPA or the NDA. First, the UPA government delayed the task and left it to a notification within a period of one year and then the NDA government started playing with the farmers of the country.
 
Today, it’s a day of victory for the farmers of India. Jai Kisan Andolan once again congratulates you all.
 
Jai Kisan!
 


Media Cell
Anupam / +91 8800 109 901
 
Swaraj Abhiyan

Swaraj Abhiyan 

प्रेस विज्ञप्ति, अगस्त 30

भूमि अधिग्रहण संशोधन अध्यादेश पर मोदी सरकार के पीछे हटने पर जय-किसान आंदोलन भारत के किसानों को बधाई देता है। ये किसानों की एक ऐतिहासिक जीत है।

जय-किसान आन्दोलन, भूमि अधिग्रहण कानून पर किसानो को मिली ऐतिहासिक जीत पर उन्हें बधाई देता है। प्रधानमंत्री जी ने आज कहा कि वो भूमि अधिग्रहण संसोधन बिल 2015 पर पुनः नया अध्यादेश नहीं लायेगें, जो किसानो के सतत और लम्बे संघर्ष को प्रदर्शित करता है। हमने इस किसान विरोधी भूमि अधिग्रहण संसोधन बिल का तभी से पुरज़ोर विरोध किया जब यह पहली बार 31 दिसंबर 2014 को किसानो पर थोपने की तैयारी की गयी थी।स्वराज अभियान ने जय किसान आंदोलन के माध्यम से सभी का ध्यान इस मूल बिंदु पर केन्द्रित किया कि यह नया बिल किस प्रकार से 2013 के भूमि अधिग्रहण बिल को बड़ी ही चतुराई से शून्य कर देगा तथा उन तमाम सुविधाओं को जो 2013 के बिल में किसानो के हित में थी, उसे समाप्त कर देगा। जय-किसान आन्दोलन ने इस मुद्दे पर अपनी तमाम चिंताओं को संयुक्त संसदीय कमेटी के सामने एक विस्तृत रूप से सुझावों के साथ रखा तथा उनसे मांग की कि उन सभी बिन्दुओं पर किसानो के हितो की रक्षा की जाए जो एक लम्बे संघर्ष के बाद 2013 के बिल में प्राप्त हुए थे।

अभी जब हम संयुक्त संसदीय कमेटी की रिपोर्ट का इतंजार कर रहे हैं, इस दौरान सरकार के द्वारा लिया गया यह फैसला किसानो के द्वारा किया गया संघर्ष और जीत की कहानी को बयां करता है। एक लम्बे समय अंतराल के बाद किसानो ने किसी महत्वपूर्ण अखिल भारतीय मुद्दे पर केंदीय सरकार को कदम पीछे खींचने पर मजबूर किया है और सफलता प्राप्त की है।

किसानो की इस जीत पर अभी आत्ममुग्ध नहीं होना चाहिए क्योंकि यह एक आंशिक जीत है। हमें सतर्क रहन होगा क्योंकि अभी संयुक्त संसदीय कमेटी की रिपोर्ट का आना बाकि है और सरकार ने अभी भी जय-किसान आंदोलन के अन्य तीन महत्वपूर्ण मांगों को नहीं माना है। प्रधानमंत्री और उनके सलाहकारों के द्वारा इस बात पर हमेशा जोर दिया जा रहा है कि वह राज्यों के स्तर पर भी यही संसोधन आने वाले कुछ महीनो में लायेगें। यह इस दोहरी नीति का परिचायक है कि सरकार किस प्रकार राष्ट्रीय स्तर पर लोगो से कुछ और वादा कर रही है जबकि ज़मीनी स्तर पर किसी अन्य नीति पर चल रही है। इन सभी बातों को ध्यान में रखते हुए किसानो को अपना संघर्ष जारी रखना पड़ेगा।

सरकार अब 13 केंदीय कानूनो पर वैधानिक आदेश लाने की बात कह रही है जो कि एक राजनीतिक पैतरेबाज़ी से ज्यादा कुछ नहीं, क्योंकि यह आदेश उसे 2013 के बिल के 1 साल के भीतर ही लाना था। जाहिर है सरकार यह दिसंबर 2014 से पहले आवश्यक अधिसूचना लाने में विफल रही और अब अपनी गलती को छुपाने की एक नाकाम कोशिश कर रही है।

आज का दिन भारत के किसानों के लिए जीत का दिन है। जय किसान आंदोलन एक बार फिर से आप सभी को बधाई देता है।

जय किसान। जय हिन्द।

A-189, Sec-43, Noida UP
swarajabhiyan.org

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Information

This entry was posted on August 30, 2015 by in Uncategorized and tagged , , , , , .

Top Clicks

  • None

Catagories

Archives

%d bloggers like this: