Adil Mohammed's Blog since 2009

Let us make the space we share better and bring the change we desire. Author is Indian Muslim, a Public Figure, Social Activist, Blogger and Media Personality. On mission to build a givers world rather than takers.

Statement of Yogender Yadav to AAP’s Show Cause Notice. ( In Hindi and English ) Calls it a Joke.

download (3)Following is the statement by Yogendra Yadav on the show-cause notice which has been served to him.  Both in English an  and Hindi. Today 18th of April 2015.

A joke
———-
It is afternoon. TV channels quote a party leader (who is not a member of the Disciplinary Committee) that we are to be served Show Cause Notice in the evening.

That’s a joke, I thought. Last evening I had spoked to Mr Waghela, the Chair of Disciplinary Committee. He said he was not in Delhi and had no idea of a possible show cause notice to us except from TV news! As yet, nothing has been referred to him, he said. He couldn’t have dashed down from Goa for Disciplinary Committee Meeting, received the complaint and come to a conclusion within the last 12 hours, I thought.

I was wrong. By 8 pm media told us that the Notice has finally been issued and was being hand delivered. I did not believe it, till we learnt that Prof Anand Kumar’s notice was delivered at his home. Who is keeping the media informed at every stage, I wonder? I kept waiting in vain for my letter to be delivered. By 10 pm the media already knew the contents of all the four letters. Could anyone other than a committee member have leaked it?

Its well past midnight. I check my email for one last time before going to bed and find that the Notice has been emailed to me at 11:45 pm, minutes before midnight. I am told the National Disciplinary Committee has received a complaint against us, reviewed it and found its charges prima facie correct! I have been given till 6 pm on Sunday to respond to this lengthy complaint.

And you know the joke? I am told the Show Cause Notice charges me with leaking sensitive information to the media!!

That’s not the only joke. The Committee that has served the notice and will decide the matter includes Shri Pankaj Gupta who had signed a written public statement accusing Prashant Bhushan and me of anti-party activities, the charge he is going to investigate now!

The Committee also includes Shri Ashish Khaitan who had last month made derogatory remarks against Prashant Bhushan and his family (which he had to apologise for and delete) and was the key source of “evidence’ of Prashant Bhushan’s anti-party activities during Delhi elections. He has liberally cursed both of us on TV. Ever heard of complainants and witnesses themselves becoming judges?

I had spoken to Shri Waghela about this violation of elementary principle of justice. He did not disagree with me and promised to look into this aspect. But I find that these Hon’ble members of the National Disciplinary Committee have not honourably recused themselves from this case.

Will they recuse themselves now and review the show cause notice? Will the committee look into its own leaks before it sits down to examine someone else’s? Or will the joke continue? Or should I call it a farce?

————————-
कल शाम से ही मीडिया में खबरें आ रही थीं कि मेरे, प्रशांत, अजीत और आनंद जी को कारण-बताओ नोटिस जारी कर दिया गया है. आश्चर्य की बात कि तब तक मेरे पास ऐसा कोई भी नोटिस नहीं आया था. मीडिया में तो हमारे ऊपर लगाये गए आरोप भी चल रहे थे. ये भी चल रहा था कि हमें जवाब देने के लिए सिर्फ 48 घंटे का वक़्त दिया जाएगा. मतलब हमारा कारण-बताओ नोटिस हमसे पहले मीडिया को दिया जा चुका था.
खैर, आधी रात को जाकर मुझे भी वो चिट्ठी मिल ही गयी जो असल में मेरे लिए लिखी गयी थी. सुबह उठा तो देखा कि अखबारों में भी शो-कॉज नोटिस की खबरें आ गयी. मजेदार बात ये है कि इस नोटिस में मेरे ऊपर लगाये गए आरोपों में से एक है मीडिया में ख़बर ‘लीक’ करना. जी हाँ, वो नोटिस जो मुझे मिलने से पहले ही लीक कर दिया गया था, उसमें लिखा है कि मैं ख़बरें लीक करता हूँ.
अब मुझे मिले नोटिस की बात: पूरे शो-कॉज नोटिस में एक शब्द भी इसपर नहीं है कि मैंने चुनावों में पार्टी को हराने की कोई कोशिश की हो. इतना ही नहीं, कहीं पर भी ये आरोप नहीं है कि मैंने पार्टी का संयोजक बनने के लिए षड्यंत्र रचा. पार्टी को हराने और संयोजक बनने के झूठे आरोपों के सहारे ही पिछले दो महीने से मेरे खिलाफ प्रोपेगेंडा चलाया गया, हमारे खिलाफ वॉलंटियर्स को भड़काने की कोशिश हुई और हमें गद्दार तक बताने की कोशिश की गयी. और आज जब जाँच की बारी आई तो ये सारे आरोप गायब हो गए? कहाँ गए ये दोनों आरोप जिनके आधार पर नेशनल काउन्सिल की मीटिंग में हमें गद्दार बताया गया? अगर ये आरोप झूठे थे, तो कौन माफ़ी मांगेगा?
परसों मैंने अनुशास्नात्मक समीति के अध्यक्ष वाघेला जी से फोन पर बात की थी. तब तक उन्हें किसी भी तरह के कारण-बताओ नोटिस के बारे में नहीं मालूम था. वाघेला जी ने कहा कि उन्होंने भी ऐसी खबरें सिर्फ टीवी से ही सुनी है. इसका मतलब कि बिना किसी आमने-सामने बैठक के समिति ने नोटिस जारी करने का निर्णय ले लिया है.
अनुशासनात्मक समिति में तीन सदस्य हैं. एक हैं अध्यक्ष वाघेला जी. बाकी दो वो लोग हैं जिन्होंने इस पूरे विवाद के दौरान हमारे ऊपर खुल के आरोप लगाये – श्री पंकज गुप्ता और श्री आशीष खेतान. कमाल की बात है कि अब यही लोग इन आरोपों की जाँच भी करेंगे. 10 मार्च को आधिकारिक बयान जारी करके श्री पंकज गुप्ता ने हमपर आरोप लगाये थे. श्री आशीष खेतान टीवी और ट्विट्टर पर लगातार हमारे खिलाफ बयानबाजी करते रहे हैं. उन्होंने प्रशांत जी और उनके परिवार के बारे में अपमानजनक टिप्पणियाँ की जिसपर बाद में माफ़ी भी मांगी और ट्वीट भी डिलीट किया था. क्या कभी आपने सुना है कि शिकायत करने वाला ही जज भी बन जाए. क्या दुनिया के किसी भी कानून में ऐसा होता है कि जो आरोप लगाये वही आरोपों की जाँच भी करे?
ये सब देखते हुए फैज़ की वो पंक्तियाँ याद आती हैं:
“ बने हैं अहल-ए-हवस मुद्दई भी, मुंसिफ भी
किसे वकील करें, किससे मुंसिफ़ी चाहें “
मैंने न्याय की इस मूलभूत बात को श्री वाघेला के आगे उठाया था और उन्होंने भी मेरी बात से इनकार नहीं किया. उन्होंने वादा किया था कि मेरी इस चिंता पर गौर फरमाएंगे. लेकिन मैं देख रहा हूँ कि अनुशासनात्मक समिति के इन सम्मानित सदस्यों ने खुद को सम्मानपूर्वक इस केस से अब तक दूर नहीं किया है.
मैं अब भी उनके जवाब का इंतज़ार कर रहा हूँ. क्या वो न्यायसंगत तरीके से खुद को रेक्यूज़ करके इस शो-कॉज नोटिस की किसी और से समीक्षा करवाएंगे? क्या किसी और की जाँच करने से पहले ये समिति पहले अपने द्वारा मीडिया में कराये गए लीक की जाँच करवाएगी? या फिर ये मज़ाक, ये तमाशा ऐसे ही चलता रहेगा?
You can also find his statement in English on: https://www.facebook.com/AapYogendra/posts/822135494521527

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Catagories

Archives

%d bloggers like this: